SeFi aur DeFi Mein Kya Antar Hai? [सेफी (SeFi) और डेफी (DeFi) दोनों में क्या अंतर है ?]

SeFi और DeFi दो अलग-अलग प्रकार की वित्तीय प्रणालियाँ हैं जो ब्लॉकचेन तकनीक पर बनी हैं।

SeFi, या “स्व-संप्रभु वित्त,” एक शब्द है जिसका उपयोग वित्तीय प्रणालियों का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर निर्मित होते हैं और व्यक्तियों को अपने स्वयं के वित्तीय डेटा और संपत्तियों पर अधिक नियंत्रण देने के लिए डिज़ाइन किए जाते हैं। ये प्रणालियां अधिक पारदर्शी और सुरक्षित वित्तीय infrastructure बनाने के लिए आमतौर पर decentralized तकनीक का उपयोग करती हैं, जैसे कि स्मार्ट अनुबंध। इस प्रणाली में, उपयोगकर्ताओं के पास अपनी निजी चाबियों और संपत्ति का पूर्ण नियंत्रण होता है।

DeFi, या “विकेंद्रीकृत वित्त,” एक शब्द है जिसका उपयोग वित्तीय प्रणालियों का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर निर्मित होते हैं और किसी के लिए खुले और सुलभ होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। ये प्रणालियां अधिक पारदर्शी और सुरक्षित वित्तीय अवसंरचना बनाने के लिए आमतौर पर decentralized तकनीक का उपयोग करती हैं, जैसे कि स्मार्ट अनुबंध। DeFi प्रोटोकॉल और प्लेटफ़ॉर्म उपयोगकर्ताओं को बिचौलियों की आवश्यकता के बिना decentralized तरीके से उधार, उधार, व्यापार और बीमा सहित वित्तीय सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला का उपयोग करने की अनुमति देते हैं।

संक्षेप में, SeFi और DeFi दोनों को ब्लॉकचेन तकनीक पर बनाया गया है और इसका उद्देश्य अधिक पारदर्शी और सुरक्षित वित्तीय बुनियादी ढाँचा बनाना है। मुख्य अंतर यह है कि सेफी व्यक्तियों को अपने स्वयं के वित्तीय डेटा और संपत्तियों पर अधिक नियंत्रण देने पर ध्यान केंद्रित करता है, जबकि डेफी को खुले और किसी के लिए सुलभ होने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

अधिक प्रश्न अवश्य पढ़ें:

India Mein Cryptocurrency Trading Par Ban Kyun Hain? [भारत में Cryptocurrency में लेन देन पर प्रतिबंध क्यों है? क्या cryptocurrency भारत में खरीदी जा सकती है?]

Leave a Comment